Advertisement

प्रदेश के मुखिया माननीय शिवराज सिंह चौहान गृहमंत्री को आते ही क्या बोल दिए

केंद्रीय गृह मंत्री माननीय श्री अमित शाह जी ने भोपाल के रवीन्द्र भवन सभागार में आयोजित कार्यक्रम में भोपाल में मध्यप्रदेश पुलिस के आवास और प्रशासनिक भवनों का लोकार्पण किया। इस अवसर पर मैं और अनेक गणमान्य जन उपस्थित रहे।

गर्व होता है हमारे देश को देखकर कि जिस स्थान पर भारत है, आज पूरी दुनिया भारत की जय जयकार करती है। ऐसे अपने देश की एकता, अखंडता और आंतरिक एकता को मजबूत करने के अद्भुत काम माननीय गृहमंत्री श्री अमित शाह जी ने किया है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष जी ने क्या कहा

एक बार मैंने सन 2010-11 में अखबार में पढ़ा कि पुलिस के मकानों की बड़ी दुर्दशा है और बरसात के दिनों में जहांगीराबाद में उन मकानों का निरीक्षण करने चला गया। तब मन में यह विचार आया कि हमारे पुलिस परिवारों के पास बेहतर और अच्छे मकान होने चाहिए। आज मुझे यह बताते हुए प्रसन्नता है कि हमने 25000 मकान बनाने का लक्ष्य हाथ में लिया था जिसमें 12000 मकान बन चुके हैं, बाकी भी जल्दी बनेंगे। यह निर्माण 25000 मकानों तक ही नहीं रुकेगा। आगे जैसे-जैसे जरूरत होगी हम इन मकानों की संख्या बढ़ाते जाएंगे।

मुख्यमंत्री माननीय शिवराज सिंह चौहान ने माफियाओं को क्या कहा

अभी हमने यहां पर देखा कि “हमें मिला है भरपूर मान, हमारा घर हमारी शान।”
घर अच्छा हो तो केवल पुलिसकर्मी का मनोबल नहीं बढ़ता। बच्चे अच्छी परिस्थितियों में रहते हैं, ढंग से अध्ययन करते हैं, तथा घर का वातावरण भी ठीक होता है। मैं मानता हूं कि जितना काम बेहतर कानून व्यवस्था की स्थिति बनाने का है, उतना ही बड़ा काम पुलिस के परिवारों को अच्छे परिवेश में वह रहें, इसका इंतजाम करने का है। यह काम करके मन आनंद और प्रसन्नता से भरा हुआ है।

माननीय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शिक्षा के बारे में क्या कहा

वैसे तो मध्य प्रदेश शांति का टापू है। बड़े माफिया तो यहां मिलते नहीं है, पर अगर छोटे-मोटे भी कहीं मिले तो उनको भी नेस्तनाबूद मध्यप्रदेश की पुलिस ने किया है। मुझे सचमुच में मध्यप्रदेश की पुलिस की इन उपलब्धियों पर निश्चित तौर पर गर्व है। मुझे बताते हुए प्रसन्नता है कि हमने मध्यप्रदेश में अधिकारियों और कर्मचारियों के बच्चों को 11वीं से लेकर उच्च शिक्षा तक ट्यूशन फीस की प्रतिपूर्ति करने का कार्यक्रम हाथ में लिया है। मध्य प्रदेश पुलिस के बहादुर जवानों ने सिमी के नेटवर्क को भी ध्वस्त किया। सिमी के आतंकवादियों ने अगर यह हिम्मत की कि जेल तोड़कर बाहर निकलें, तो वो ज्यादा दूर नहीं जा पाए और भोपाल के पास ही ढेर कर दिए गए।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने युवाओं को रोजगार के बारे में क्या कहा

मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि अपने बच्चों की शिक्षा के लिए आप बिल्कुल चिंतित ना हों। उनके कॉलेज की फीस का इंतजाम करना मध्यप्रदेश सरकार की जवाबदारी है। मध्यप्रदेश में अपने कर्तव्यों की पूर्ति करते हुए अगर कोई हमारा साथी शहीद होता है, तो हम 1 करोड़ रुपए की सम्मान निधि उनके परिवार को देने का कार्य करते हैं। सेवानिवृत्त के पश्चात भी अगर 2 वर्ष की अवधि में मृत्यु हो जाए तो ₹1 लाख की अतिरिक्त राशि स्वतः देने का काम करते हैं।
सभी नागरिक त्योहार अपने परिवार के साथ मना सके इसलिए मध्यप्रदेश पुलिस के जवान जनता के लिए दिन और रात खड़े रहते हैं। इनके प्रति हमारे कर्तव्यों की पूर्ति के लिए एक विनम्र प्रयास मध्य प्रदेश सरकार ने किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
Instagram
WhatsApp