सिंगरौली विकास का पर्याय बने : मुख्यमंत्री श्री चौहान
सिंगरौली में आए 261 करोड़ रूपये के निवेश प्रस्ताव
सिंगरौली जिले में बढ़ा कोदो-कुटकी का रकबा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सिंगरौली जिले की समीक्षा की
सिंगरौली 26 अगस्त 2022. मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रातः निवास कार्यालय से वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा प्रदेश के दूरस्थ सिंगरौली जिले में विकास कार्यों और कानून-व्यवस्था की विस्तारपूर्वक समीक्षा की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सिंगरौली के व्यवस्थित विकास के लिए सभी विभागों की योजना का पारदर्शिता के साथ क्रियान्वयन किया जाए। लम्बित कार्यों की नियमित समीक्षा करते हुए योजनाओं से हितग्राहियों को लाभान्वित किया जाए।मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि नगर और जिले का व्यवस्थित विकास हो। निर्धारित मास्टर प्लान के अनुरूप योजनाबद्ध बसाहट के साथ अन्य सुविधाएँ विकसित करें। योजनाओं के क्रियान्वयन की कठिनाईयों को दूर कर नागरिकों को अच्छी सेवाएँ पहुँचाई जाएँ। क्रियान्वयन स्पष्ट दिखना चाहिए। औद्योगिक क्षेत्र और अन्य क्षेत्रों में नागरिक सुविधाएँ उपलब्ध रहें। सिंगरौली विकास का पर्याय बने। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सीएम हेल्प लाइन में दर्ज प्रकरणों का प्राथमिकता से निराकरण किया जाए। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल, आवास, राशन वितरण, स्वास्थ्य सेवाओं और अन्य नागरिक सेवाओं को सही ढंग से पहुँचाने का कार्य किया जाए।

Advertisement

स्व-रोजगार मेला और निवेश :- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि स्थानीय युवाओं को रोजगार में प्राथमिकता देना है। उन्होंने इस माह हो रहे रोजगार दिवस में प्राप्त प्रस्तावों के संबंध में भी जानकारी प्राप्त की। कलेक्टर ने बताया कि लाभान्वित युवाओं की संख्या 1068 और प्राप्त प्रस्ताव 27 करोड़ रूपये के हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुद्रा योजना सहित अन्य योजनाओं से युवाओं को सहायता दिलवाने के लिए बैंकों से संपर्क स्थापित कर प्रयास बढ़ाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने युवाओं को तकनीकी रूप में दक्ष बनाकर रोजगार दिलवाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन उद्योगों से संपर्क स्थापित कर औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थाओं के संचालन में उनका सहयोग प्राप्त करें। बताया गया कि सिंगरौली जिले में 261 करोड़ रूपये के विभिन्न निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। इसकी मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रशंसा करते हुए इनवेस्टमेंट बढ़ाने के निर्देश दिए।
जल जीवन मिशनः- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सिंगरौली में जल जीवन मिशन के कार्यों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि वैढ़न नगरीय क्षेत्र में जिन वार्डों में योजना में पेयजल कनेक्शन लगाने का कार्य पूर्ण नहीं हुआ है, उन्हें जल्द से जल्द पूरा किया जाए। जिले में मिशन के कार्यों की प्रगति वर्तमान में संतोषजनक नहीं है। कोई भी मोहल्ले और परिवार इस सुविधा से वंचित नहीं होना चाहिए। कलेक्टर ने जानकारी दी कि दिसम्बर माह तक सभी वार्डों में पेयजल कनेक्शन के कार्य पूर्ण हो जाएंगे। अपर मुख्य सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री मलय श्रीवास्तव ने बताया कि सिंगरौली सहित सभी जिलों में मिशन के कार्यों की समय पर पूर्णता सुनिश्चित की जा रही है।
प्रधानमंत्री आवास योजनाः- बताया गया कि जिले में 12 हजार 179 आवास गृह स्वीकृत किए गए हैं। वर्तमान में 62 प्रतिशत आवास बनकर पूर्ण हो गए हैं। योजना की प्रतिमाह समीक्षा की जा रही है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि स्वीकृत आवास गृह बिना विलम्ब के निर्मित किए जाएँ। यदि किसी हितग्राही द्वारा आवास गृह निर्माण का कार्य पूर्ण नहीं किया गया है तो ऐसे मामलों की समीक्षा कर आवास गृह का निर्माण पूर्ण करवाया जाए। आवास प्लस योजना से छोटे हितग्राही लाभान्वित किए जाएँ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बैठक में उपस्थित विधायक गण से अनुरोध किया कि वे भी अपने दौरे के समय आवास गृहों का अवलोकन करें। सिंगरौली एक बड़े क्षेत्रफल वाला जिला है। यहाँ अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों की भी बहुतायत है। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में आवास योजनाओं के गंभीरतापूर्वक क्रियान्वयन पर ध्यान दिया जाए।
अमृत सरोवर निर्माणः- बताया गया कि जिले में 106 अमृत सरोवर का निर्माण प्रगति पर है। हाल ही में “हर घर तिरंगा“ अभियान में निर्मित सरोवरों पर भी तिरंगा फहराया गया। अच्छी बारिश होने से सरोवरों में जल-स्तर भी अच्छा है।
एक जिला-एक उत्पाद योजनाः- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जिले में कोदो-कुटकी के विपुल उत्पादन को देखते हुए इसकी ब्रांडिंग के निर्देश दिए। कलेक्टर ने जानकारी दी कि जिले में करीब 4 हजार क्विंटल कोदो-कुटकी का उत्पादन होता है। इसका रकबा 11 हजार हेक्टेयर से बढ़ कर 17 हजार हेक्टेयर हो गया है।
स्व-सहायता समूहः- आजीविका मिशन और स्व-सहायता समूहों के कार्यों पर भी चर्चा हुई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिले में स्व-सहायता समूहों के आंदोलन को पूरी ताकत से बढ़ाएँ। समूहों की सदस्य बहनों को लाभान्वित करने के लिए निरंतर प्रयास किए जाएँ। कलेक्टर ने जानकारी दी कि पोल्ट्री क्षेत्र और अन्य कार्यों से समूह जुड़े हैं। दो उत्पादक कंपनियाँ भी कार्य कर रही हैं। करीब 1200 परिवार इन से जुड़े हैं। गत वित्तीय वर्ष में इनका टर्नओवर 27 करोड़ रूपये था।
सीएम हेल्प लाइन के प्रकरणों की निराकरण की स्थितिः- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सीएम हेल्प लाइन में दर्ज प्रकरणों के निराकरण के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह जनता को मिल रही सेवाओं की स्थिति को दर्शाने का सशक्त माध्यम है। सीएम हेल्प लाइन में दर्ज की गईं शिकायतों को हल करने के लिए सभी विभाग सक्रिय रहें। लोक सेवा केन्द्रों का संचालन भी आम-जन के कल्याण के लिए किया जा रहा है। लोगों को अपने कार्य के लिए चक्कर न लगाना पड़ें, इसके लिए बिचौलियों को पकड़ने की कार्यवाही भी पुलिस द्वारा की जाए।
मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजनाः- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ग्रामीण क्षेत्रों में छोटा व्यवसाय करने वाले ग्रामीण पथ विक्रेताओं को लाभान्वित करने के निर्देश दिए। बैंक के स्तर पर हितग्राहियों के प्रकरण मंजूर होने में देर न हो, इसके लिए प्रशासन द्वारा बैंकों से संपर्क कर शीघ्र स्वीकृति के प्रयास किए जाएँ।
राष्ट्रीय राजमार्ग-39 का निर्माण कार्यः- राष्ट्रीय राजमार्ग-39 के निर्माण कार्य की प्रगति की चर्चा हुई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इस कार्य को समय-सीमा में पूर्ण किया जाए। आम जनता को इस मार्ग के निर्माण से सुविधा प्राप्त होगी। इसमें विलम्ब नहीं होना चाहिए। प्रमुख सचिव लोक निर्माण श्री नीरज मंडलोई ने कार्य की स्थिति से अवगत कराया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जिले में ओवरब्रिज और फ्लायओवर संबंधी प्रस्तावों के क्रियान्वयन के भी निर्देश दिए।
अंकुर अभियानः- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिले में परिवारों को शुभ अवसर और दिवंगत परिजन की स्मृति में पौध-रोपण के लिए प्रेरित किया जाए। अंकुर अभियान में जन-भागीदारी बढ़ाने के प्रयास किए जाएँ। इसे जन-अभियान बनाएँ। कलेक्टर ने बताया कि जिले में अभियान में 23 हजार पंजीयन हुए हैं।
सार्वजनिक वितरण प्रणाली और अन्न उत्सवः- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रतिमाह अन्न उत्सव के आयोजन और आम-जन को खाद्यन्न वितरण के क्रियान्वयन की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने मूंग दाल वितरण कार्य भी पूर्ण करने की निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जन-प्रतिनिधियों द्वारा राशन की दुकानों के निरीक्षण की आवश्यकता बताई।
आँगनवाड़ी केन्द्रों का संचालन और पोषण आहार वितरणः- एडाप्ट एन आँगनवाड़ी की प्रगति पर भी चर्चा हुई। कलेक्टर ने बताया जिले में संचालित सभी 1550 आँगनवाड़ी केन्द्र को एडाप्ट किया जा चुका है। केन्द्रों के लिए रीवा संयंत्र से पोषण आहार प्राप्त होता है। जिले में 100 आँगनवाड़ी केन्द्र को मॉडल आँगनवाड़ी के रूप में विकसित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इन केन्द्रों में जन-सहयोग से खिलौनों और अन्य सामग्री की आपूर्ति की जानकारी भी प्राप्त की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि सिंगरौली क्षेत्र की औद्योगिक इकाइयों का सहयोग भी आँगनवाड़ी केन्द्रों के संचालन के लिए प्राप्त किया जाए। यदि लोग भावनात्मक रूप से जुड़ेंगे तो आँगनवाड़ी केन्द्रों के बेहतर संचालन का कार्य संभव होगा। जिन लोगों ने आँगनवाड़ी केन्द्र गोद लिया है, वे सप्ताह में कम से कम एक दिन वहाँ जरूर जाएँ।
कानून-व्यवस्थाः- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पुलिस अधिकारियों को औद्योगिक क्षेत्र और सामान्य रहवासी क्षेत्र में कानून-व्यवस्था की स्थिति मजबूत बनाए रखने के निर्देश दिए। कहीं भी नशे का कारोबार न चले। अपराधी तत्वों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही हो।
सिंगरौली जिला प्रशासन की प्रशंसाः- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कलेक्टर से उन योजनाओं की जानकारी प्राप्त की जिनमें नागरिकों का संतुष्टि स्तर बेहतर है। कलेक्टर द्वारा स्वच्छ भारत अभियान और किसान सम्मान निधि के अच्छे क्रियान्वयन की जानकारी दी गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सिंगरौली जिले में गौरव दिवस के आयोजन बहुत अच्छे हुए हैं। इसके लिए प्रशासन प्रशंसा का पात्र है। विधायक देवसर श्री सुभाष सिंह और विधायक चितरंगी श्री अमर सिंह उपस्थित थे। सिंगरौली कलेक्टर श्री राजीव रंजन मीणा के अलावा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सिंगरौली और अन्य अधिकारी वीडियो कान्फ्रेंस में उपस्थित थे।

Jansampark Madhya Pradesh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
Instagram
WhatsApp