Bihar Buxar Raghunathpur train accident news, बिहार में ट्रेन हादसा, रघुनाथपुर ट्रेन एक्सीडेंट, 200 से अधिक घायल और मरने वालों की संख्या?, bihar buxar raghunathpur train accident news, raghunathpur train accident, Bihar train accident

raghunathpur train accident
raghunathpur train accident

Raghunathpur train accident

दिल्ली के आनंद विहार टर्मिनल से कामाख्या की ओर जाने वाली ट्रेन बिहार में पहुंचने पर बक्सर स्टेशन और आरा स्टेशन के बीच रघुनाथपुर में एक्सीडेंट हो गई, यह घटना दिनांक 11 अक्टूबर 2023 को शाम लगभग 10:00 बजे के करीब हुई जिसमें ट्रेन की कई पटरिया डैमेज होने के कारण ट्रेन के कई डिब्बे पटरी से नीचे उतर गए

Advertisement

Raghunathpur train accident – ट्रेन में बैठे कुछ लोगों का मानना है कि यह ट्रेन ड्राइवर के इमरजेंसी ब्रेक लगाए जाने के कारण अचानक पटरी से डिब्बे उतर गए, और देर रात ट्रेन के कई डिब्बे पटरी से नीचे उतरने के कारण कई लोगों को छोटे आई और कई लोग घायल हो गए जिसमें अभी तक चार लोगों के मरने की खबर है

Raghunathpur train accident – रघुनाथपुर ट्रेन हादसा

दिल्ली से बिहार होते हुये कामाख्या की ओर जाने वाली ट्रेन बिहार में पहुचते ही यह खबर आई कि बिहार के रघुनाथपुर में कुछ डिब्बे पटरी के नीचे उतर गए हैं जिसमें ट्रेन पलटने की खबर आने लगी और सभी ओर यह खबर फैलते ही लोगों में डर का माहोल बन गया और कई डिब्बे पटरी से निचे उतर कर खेत में आ गये

Raghunathpur train accident

बिहार में बक्सर जिले के रघुनाथपुर स्टेशन के पास एक बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है। वहां पर नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस ट्रेन की बोगियां पलटने और पटरी से उतरने के कारण चार लोगों की मौत हो गई है और 200 लोग घायल हो गए हैं। कुल मिलाकर, 23 बोगियां डीरेल हो गई हैं। मौके पर एनडीआरएफ द्वारा बचाव अभियान जारी है, और फंसे हुए यात्रियों को विशेष ट्रेन से गंतव्य के लिए रवाना किया गया है। रेलवे ने 21 ट्रेनों का रूट डायवर्ट किया है

Raghunathpur train accident

बिहार के बक्सर जिले में बुधवार रात को एक बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है। यह घटना रघुनाथपुर स्टेशन के पास हुई, जहां दिल्ली-कामाख्या नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस की छह बोगियां पटरी से उतर गईं। हादसे में चार यात्री की मौत हो गई, जबकि प्रारम्भ में 70 लोग घायल हो गए हैं ऐसी सूचना थी बाद में घायलों की संख्या बढ़ गई। इस घटना का समय 9:53 बजे रात का था।

वीडियो फुटेज में दिखाया गया है कि थर्ड एसी की दो बोगियां पूरी तरह पलट गईं, जबकि चार अन्य बोगियां पटरी से उतर गईं। कुल मिलाकर, 23 बोगियां डीरेल हो गई हैं।

मौके पर तुरंत राहत और बचाव कार्य शुरू हुआ है, और रेलवे ने यात्रियों को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए एक अलग ट्रेन का इस्तेमाल किया है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने इस घटना के कारण की जांच के लिए एक कमेटी का गठन किया जाएगा। बक्सर के पुलिस अधीक्षक मनीष कुमार ने बताया कि इस हादसे में चार यात्री जीवन से विचलित हो गए हैं,

और रेलवे पुलिस बल के एक अधिकारी ने बताया कि करीब 70 यात्री घायल हो गए हैं, जिन्हें स्थानीय अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। गंभीर रूप से घायलों को पटना के एम्स अस्पताल में ले जाया गया है।

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने इस घटना के चौंकाने के बावजूद जनमाल के नुकसान पर संवेदना जताई है, और उन्होंने कहा कि रूट को क्लीयर करने का काम पूरा हो गया है। गुरुवार सुबह, केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे मौके पर पहुंचे और बचाव कार्यों का निरीक्षण किया।

Raghunathpur train accident video

ट्रेन नंबर 12506, नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस, बुधवार सुबह 7:40 बजे दिल्ली के आनंद विहार स्टेशन से रवाना हुई थी। यह ट्रेन करीब 6 किलोमीटर दूर कामाख्या तक जाती है और 33 कोचों से युक्त है। इस ट्रेन को करीब 33 घंटे में इस दूरी को कवर करने में लगता है।

Raghunathpur train accident

असम की मां-बेटी की गई जानहादसे में एक महिला और उसकी आठ साल की बच्ची की भी जान गई है। जबकि दो युवकों की मौत हुई है। मरने वालों की पहचान ऊषा भंडारी और उनकी बेटी अमृता कुमारी के रूप में हुई। दोनों असम के तिनसुकिया जिला के सदियां गांव की रहने वाली थीं। महिला अपने पति और दो बेटियों के साथ दिल्ली से असम जा रहे थे। इस हादसे में महिला का पति और एक बेटी की जान बच गई है।

तीसरे मरने वाले की पहचान जैद (27 साल) के रूप में हुई। ये बिहार के किशनगंज जिले के सपतेया विष्णुपुर का रहने वाला था और दिल्ली से किशनगंज जा रहा था। चौथे मरने वाले की पहचान नहीं हो पाई है। घायलों का इलाज बक्सर, भोजपुर और पटना एम्स में कराया जा रहा है।

स्थानीय लोगों और प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि मरने वालों के परिजन और प्रत्यक्षदर्शी अभी भी सदमे में देखे जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि एसी बोगी के सभी यात्री करीब-करीब सो चुके थे या सोने की तैयारी में थे। इसी बीच अचानक ट्रेन से झटका लगा और सभी लोग अपने बर्थ से गिरने लगे। करीब 10 से 15 मिनट तक ट्रेन में इधर से उधर गिरते रहे। एक-दूसरे पर पलटते रहे। जब तक किसी को कुछ समझ आता,, तब तक ट्रेन की बोगियां डीरेल हो चुकी थीं।

दो बोगी बेपटरी होकर पूरी तरह से पलट गई थीं। ट्रैक उखड़ गया था। दूसरे ट्रैक पर बोगियां पड़ी थीं। कोई यात्री सीट के नीचे दबा था तो कोई खिड़की के नीचे। कोई शौचालय में फंसा रहा। हादसा इतना जोरदार था कि आवाज एक किलोमीटर दूर तक सुनाई दी और स्थानीय लोग दौड़कर पहुंचे। सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण मौके पर आए और बिना किसी के ऑर्डर के रेस्क्यू में जुट गए।

Raghunathpur train accident

मेरे ऊपर आकर गिरे लोग

‘एक यात्री ने बताया कि मैं ट्रेन के एसी कोच में था। अचानक शोर सुनाई दिया। लोग चिल्ला रहे थे। कई लोग मेरे ऊपर आकर गिरे। कुछ देर तक समझ नहीं आया। एक अन्य यात्री ने कहा, हम स्लीपर कोच में यात्रा कर रहे थे। हमें अचानक एक आवाज सुनाई दी। ट्रेन की स्पीड करीब 70-80 किलोमीटर प्रति घंटे थी।

Raghunathpur train accident -हमने खड़े होकर देखा कि ट्रेन के डिब्बे पटरी से उतर गए हैं। यह हादसा रात 9.30-10.30 बजे के आसपास हुआ। एक अन्य यात्री श्रीनिवास पांडे ने कहा, स्थानीय लोग तुरंत यहां पहुंचे और हमारी बहुत मदद की। हमारे कोच में कोई हताहत नहीं हुआ, लेकिन कई लोग घायल हो गए।

Bihar Train Accident: स्पीड में दौड़ रही थी ट्रेन, अचानक ब्रेक लगा और पलट गई नॉर्थ-ईस्ट एक्सप्रेस… हादसे वाली रेल के गार्ड ने बताया आखिर हुआ क्या

स्थानीय लोगों ने दिखाई तत्परता’

स्थानीय निवासी हरि पाठक ने बताया कि ट्रेन सामान्य गति से आ रही थी, लेकिन अचानक हमने एक तेज आवाज़ सुनी और ट्रेन से धुंए का गुबार उठने लगा। हम यह देखने के लिए दौड़े कि क्या हुआ।

हमने देखा कि ट्रेन पटरी से उतर गई और एसी कोच सबसे ज्यादा क्षतिग्रस्त थे। सामने आए विजुअल में देखा जा रहा है कि स्थानीय लोग यात्रियों को बचाने के लिए दौड़ रहे हैं और बोगी से बाहर निकलने में मदद करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

Raghunathpur train accident – एक महिला यात्री को सदमे में देखा जा रहा है। स्थानीय लोगों ने उसकी मदद की और कोच से बाहर निकाला। कई पुलिस अधिकारियों को भी मौके पर यात्रियों को ट्रेन से बचाने में मदद करते देखा गया

‘यात्रियों को दूसरी ट्रेन से गंतव्य तक भेजा’

रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। दुर्घटनास्थल से यात्रियों को लाने-ले जाने के लिए पटना से एक स्क्रैच रेक भेजा गया। यह अस्थायी रेक है, जो ट्रेन की तरह होता है। यात्रियों को सुरक्षित निकालने के लिए छह बसें भी दुर्घटनास्थल पर भेजी गईं।

फंसे हुए यात्रियों के लिए आरा से एक अन्य रेक की व्यवस्था की गई है। रेलवे पुलिस बल के इंस्पेक्टर दीपक कुमार ने बताया कि मेडिकल टीमों को मौके पर भेजा गया है।

Raghunathpur train accident – जिला प्रशासन ने बक्सर शहर के स्थानीय अस्पतालों को अलर्ट मोड पर रखा है।

‘एक झटका लगा, ट्रैक उखड़ गया, कोई बेड के नीचे दबा तो कोई टॉयलेट में फंसा…’, बक्सर ट्रेन हादसे का मंजर यात्रियों की जुबानी’रेलवे ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर्स’रेलवे ने यात्रियों के लिए आपातकालीन हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं।

ये नंबर्स- Raghunathpur train accident

9771449971 (पटना जंक्शन), 8905697493 (दानापुर), 8306182542 (आरा), 7759070004 (कॉमर्शियल नॉर्थ सेंट्रल रेलवे), 9794849461, 8081206628 (पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन) हैं। रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि राहत कार्य के लिए वॉर रूम स्थापित किए गए हैं। बचाव अभियान पूरे जोरों पर चल रहा है।

दिल्ली और डिब्रूगढ़ के बीच राजधानी एक्सप्रेस समेत रूट पर चलने वाली करीब 21 ट्रेनों को डायवर्ट किया गया है। सीपीआरओ बीरेंद्र कुमार का कहना है कि रेलवे अधिकारी मौके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

YouTube
Instagram
WhatsApp